Logical Address & Physical Address जाने हिंदी में….

Logical address and Physical address In Hindi

इस article में हम Logical address and Physical address के बारे में तथा  logical & physical addresses दोनों के मध्य अंतर को सरल व आसान भाषा में जानेंगे ..
तो चलिए start करते हैं……

LOGICAL ADDRESS in Hindi

जब program run कर रहा होता है Logical address CPU द्वारा उत्पन्न होता है.

logical address virtual address है क्योंकि यह physically रूप से मौजूद नहीं है,  इसलिए इसे virtual address के रूप में भी जाना जाता है। इस address का उपयोग CPU द्वारा physical memory address तक पहुंचने के लिए एक संदर्भ के रूप में किया जाता है। इस address का प्रयोग network layer मैं किया जाता है। यह address एक IP address होता है तथा यह एक 32-bit एड्रेस होता है।

logical address space शब्द का उपयोग program के परिप्रेक्ष्य से उत्पन्न सभी logical address के set के लिए किया जाता है।
Memory Management Unit नामक hardware device का उपयोग logical address को उसके संबंधित physical address को mapping करने के लिए किया जाता है।


PHYSICAL ADDRESS in Hindi

physical address को MAC address भी कहते हैं , यह address unit होता है क्योंकि इसे change नहीं किया जा सकता है. यह address एक memory में आवश्यक data के physical location की पहचान करता है।

इस address का प्रयोग data link layer में किया जाता है यह address network में computer को identify करने का कार्य करते हैं।
यह एक 48-bit address है जो कि NIC card में उपस्थित होता है।

User कभी भी सीधे phy. address से संबंधित नहीं होता है, लेकिन इसके संगत log. address तक पहुंच सकता है।

User program log. address बनाता है और सोचता है कि program इस log. address में चल रहा है, लेकिन program को इसके निष्पादन के लिए phy. memory की आवश्यकता है, इसलिए उपयोग किए जाने से पहले log. address को MMU द्वारा phy. address पर mapping किया जाना चाहिए।

log. address space शब्द का प्रयोग log. address space में log. address के लिए सभी phy. address के लिए किया जाता है।


Servlet क्या है? हिंदी में

Neural networks क्या है? Classification and Elements of neural networks in hindi itpolynotes.com

Black box testing & white box testing के बीच अंतर

ADO.NET & ADDO.NET में अंतर


Difference between Logical address & Physical address

1—– Logical और physical address के बीच मूल अंतर यह है कि logical address CPU द्वारा program के परिप्रेक्ष्य generate किया जाता है जबकि physical address एक ऐसा स्थान है जो memory unit में मौजूद होता है।

2—- Logical address Physical रूप से memory में मौजूद नहीं है जबकि physical address memory में एक स्थान है जिसे physical रूप से access किया जा सकता है।

3—- CPU द्वारा Program को चलाने के दौरान logical address उत्पन्न किया जाता है, जबकि physical address की गणना memory management unit (MMU) द्वारा की जाती है।


Computer Online quiz || Exam practice in Hindi – I

Computer Online quiz || Exam practice in Hindi – II


निवेदन:- अगर आपके लिए यह आर्टिकल useful रहा हो तो इसे अपने दोस्तों और classmates के साथ अवश्य share कीजिये,

या अन्य विषयों से related कोई question हो तो नीचे कमेंट के द्वारा बताइए. thanks.


Visit my You tube channel for Education , Technology category videos…

technicalboy

  &

अगर इंटरेस्टिंग और अमेजिंग फैक्ट्स को जानने में इंटरेस्ट है और अगर हां तो  Visit my You tube channel for amazing videos,  Education , Technology related Amazing Facts…

TECHNOBE


इसे भी देखे:

MS Word Tutorial in hindi :

Introduction  Of MS Word जाने हिंदी में

Microsoft Office Button क्या है?

How To Open Ms Word In Hindi

Quick Access Toolbar क्या है?

Title bar in MS Word क्या है? 


इसे भी देखे:

Hello दोस्तों! नीचे दिए गए links पर click  करके आपको हम  इस पोस्ट में  (Computer Online Test) की Practice कराएंगे जिससे आप अपने  CCC, O level , कम्प्युटर GK की practice कर सकते है.

इस post के द्वारा आप  अपनी कम्प्युटर की  नॉलेज बड़ सकते है.

उसके साथ ही साथ आप अपने कई प्रकार के पेपरो की भी तैयरी  भी कर सकते है.

जैसे की CCC, O level , कम्प्युटर GK की practice कर सकते है,

2 thoughts on “Logical Address & Physical Address जाने हिंदी में….”

  1. सर आप जो लिखे हो बहुत अच्छा है,लेकिन जो लिखावट है वो अच्छे से मिले नही ऐसा लग रहा है जैसे कि हर लाइन में एक अलग पॉइंट है।
    जिसके कारण समझने में थोड़ा दिक्कत आ रही है।

    Reply
    • Post ko thik kr diya gya h. abb aapko समझने में दिक्कत nhi aayegi.. or fir v koi issus ho to comment me jrur btaiyyega hum aapke issus ko solve jrur krenge
      .. thank you…

      Reply

Leave a Comment